शहर-ए-यार में आने नहीं दिया!

उस सम्त मुझको यार ने जाने नहीं दिया,
इक और शहर-ए-यार में आने नहीं दिया|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply