काग़ज़ का ये शहर उड़ न जाए!

जंगल की हवाएँ आ रही हैं,
काग़ज़ का ये शहर उड़ न जाए|

कैफ़ी आज़मी

1 Comment

Leave a Reply