तोड़े हैं यारों ने आज पैमाने!

जहाँ से पिछले पहर कोई तिश्ना-काम उठा,
वहीं पे तोड़े हैं यारों ने आज पैमाने|

कैफ़ी आज़मी

Leave a Reply