अंजाम की वो इब्तिदा थी!

मैं बचपन में खिलौने तोड़ता था,
मिरे अंजाम की वो इब्तिदा थी|

जावेद अख़्त

Leave a Reply