अपना तो ज़ख़्म भर गया कब का!

उसका जो हाल है वही जाने,
अपना तो ज़ख़्म भर गया कब का|

जावेद अख़्त

2 Comments

Leave a Reply