क़दम रक्खा कि मंज़िल रास्ता थी!

हमारे शौक़ की ये इंतिहा थी,
क़दम रक्खा कि मंज़िल रास्ता थी|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply