पार अकेले उतर गया कब का!

वो जो लाया था हम को दरिया तक,
पार अकेले उतर गया कब का|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply