लूट के अपने घर गया कब का!

ढूँढता था जो इक नई दुनिया,
लूट के अपने घर गया कब का|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply