हिरन को अपनी कस्तूरी सज़ा थी!

बिछड़ के डार से बन बन फिरा वो,
हिरन को अपनी कस्तूरी सज़ा थी|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply