आसाँ तो नहीं लौट के घर आना भी!

जाने कब शहर के रिश्तों का बदल जाए मिज़ाज,
इतना आसाँ तो नहीं लौट के घर आना भी|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply