होना ही नहीं फूल नज़र आना भी!

कैसी आदाब-ए-नुमाइश ने लगाईं शर्तें,
फूल होना ही नहीं फूल नज़र आना भी|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply