चला हूँ किसी रौशनी के साथ!

तेरा ख़याल, तेरी तलब तेरी आरज़ू,
मैं उम्र भर चला हूँ किसी रौशनी के साथ|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply