जो चाहते हैं समुंदर-कशी के साथ!

क़तरे वो कुछ भी पाएँ ये मुमकिन नहीं ‘वसीम’,
बढ़ना जो चाहते हैं समुंदर-कशी के साथ|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply