मौसम को उस्ताद किया!

दानाओं की बात न मानी काम आई नादानी ही,
सुना हवा को पढ़ा नदी को मौसम को उस्ताद किया|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply