हर जगह बे-शुमार आदमी!

हर तरफ़ हर जगह बे-शुमार आदमी,
फिर भी तन्हाइयों का शिकार आदमी|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply