हमने गुज़ारिश नहीं की!

ये भी क्या कम है कि दोनों का भरम क़ाएम है,
उसने बख़्शिश नहीं की हमने गुज़ारिश नहीं की|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply