आईना उसे दिखा रहा हूँ!

महरूम-ए-नज़र है जो ज़माना,
आईना उसे दिखा रहा हूँ|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply