अपने आप पे कितना ग़ुरूर था!

शाम-ए-फ़िराक़ आई तो दिल डूबने लगा,
हमको भी अपने आप पे कितना ग़ुरूर था|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply