बाग़ में कोई ज़रूर था!

निकला जो चाँद आई महक तेज़ सी ‘मुनीर’,
मेरे सिवा भी बाग़ में कोई ज़रूर था|

मुनीर नियाज़ी

3 Comments

Leave a Reply