वही रश्क-ए-हूर था!

पी ली तो कुछ पता न चला वो सुरूर था,
वो उसका साया था कि वही रश्क-ए-हूर था|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply