सदा थी किसी भूली याद की!

चेहरा था या सदा थी किसी भूली याद की,
आँखें थीं उसकी यारो कि दरिया-ए-नूर था|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply