कोई साज़िश छुपा रहा है चाँद!

बे-सबब मुस्कुरा रहा है चाँद,
कोई साज़िश छुपा रहा है चाँद|

गुलज़ार

Leave a Reply