ख़ामोश तो मंज़र न फ़ना का होता!

ऐसा ख़ामोश तो मंज़र न फ़ना का होता,
मेरी तस्वीर भी गिरती तो छनाका होता|

गुलज़ा

Leave a Reply