दरिया की अना का होता!

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता,
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता|

गुलज़ार

Leave a Reply