पलकों की हवा का होता!

साँस मौसम की भी कुछ देर को चलने लगती,
कोई झोंका तिरी पलकों की हवा का होता|

गुलज़ार

Leave a Reply