सर पे अब चढ़ता जा रहा है चाँद!

सीधा-सादा उफ़ुक़ से निकला था,
सर पे अब चढ़ता जा रहा है चाँद|

गुलज़ार

Leave a Reply