खेला हूँ तो मात हो गई है!

जीती हुई बाज़ी-ए-मोहब्बत,
खेला हूँ तो मात हो गई है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

2 Comments

Leave a Reply