बीमार की रात हो गई है!

इस दौर में ज़िंदगी बशर की,
बीमार की रात हो गई है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply