इसी शहर का महबूब रहा हूँ!

अब कोई शनासा भी दिखाई नहीं देता,
बरसों मैं इसी शहर का महबूब रहा हूँ|

मुनव्वर राना

Leave a Reply