दवा भी नहीं खाते!

दावत तो बड़ी चीज़ है हम जैसे क़लंदर,
हर एक के पैसों की दवा भी नहीं खाते|

मुनव्वर राना

Leave a Reply