कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम!

तंग आ चुके हैं कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम,
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे-दिली से हम|

साहिर लुधियानवी

Leave a Reply