पेश आए हैं बेगानगी से हम!

मायूसी-ए-मआल-ए-मोहब्बत न पूछिए,
अपनों से पेश आए हैं बेगानगी से हम|

साहिर लुधियानवी

Leave a Reply