मिलती है तो क्या क्या नहीं होता!

ग़म्ज़ा नहीं होता कि इशारा नहीं होता,
आँख उनसे जो मिलती है तो क्या क्या नहीं होता|

अकबर इलाहाबादी

Leave a Reply