शगुफ़्ता मगर इतना नहीं होता!

तश्बीह तिरे चेहरे को क्या दूँ गुल-ए-तर से,
होता है शगुफ़्ता मगर इतना नहीं होता|

अकबर इलाहाबादी

Leave a Reply