अपनी नज़रों से गिरा था पहले!

ब’अद में मैंने बुलंदी को छुआ,
अपनी नज़रों से गिरा था पहले|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply