हम चले दिल को रहनुमा करके!

लोग सुनते रहे दिमाग़ की बात,
हम चले दिल को रहनुमा करके|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply