अब कहाँ जा के साँस ली जाए!

मौत का ज़हर है फ़ज़ाओं में,
अब कहाँ जा के साँस ली जाए|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply