आज फिर कोई भूल की जाए!

अगले वक़्तों के ज़ख़्म भरने लगे,
आज फिर कोई भूल की जाए|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply