बस आब-ओ-दाना चल रहा है!

ज़ियादा क्या तवक़्क़ो हो ग़ज़ल से,
मियाँ बस आब-ओ-दाना चल रहा है|

राहत इन्दौ
री

Leave a Reply