आदमी में होते हैं दस बीस आदमी!

हर आदमी में होते हैं दस बीस आदमी,
जिस को भी देखना हो कई बार देखना|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply