कहानी को फिर लिखा जाए!

जुदा है हीर से राँझा कई ज़मानों से,
नए सिरे से कहानी को फिर लिखा जाए|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply