ख़ुद को भी पढ़ लिया जाए!

किताबें यूँ तो बहुत सी हैं मेरे बारे में,
कभी अकेले में ख़ुद को भी पढ़ लिया जाए|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply