तुम भी बहल सको तो चलो!

यही है ज़िंदगी कुछ ख़्वाब चंद उम्मीदें,
इन्हीं खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply