हाथ बढ़ा कर देखो!

फ़ासला नज़रों का धोका भी तो हो सकता है,
वो मिले या न मिले हाथ बढ़ा कर देखो|

निदा फ़ाज़ली

2 Comments

Leave a Reply