हौसला करके ‘नहीं’ कहा जाए!

हर एक बात को चुप-चाप क्यूँ सुना जाए,
कभी तो हौसला करके ‘नहीं’ कहा जाए|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply