सदा सिसकियों की सुनाई न दे!

हँसो आज इतना कि इस शोर में,
सदा सिसकियों की सुनाई न दे|

बशीर बद्र

1 Comment

Leave a Reply