अपना कहा चाहे किसी दर्जे के हों!

अपनों को अपना कहा चाहे किसी दर्जे के हों,
और जब ऐसा किया मैं ने तो शरमाया नहीं|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply