उन्हीं की रौशनी जिनके चराग़!

उसकी महफ़िल में उन्हीं की रौशनी जिनके चराग़,
मैं भी कुछ होता तो मेरा भी दिया होता कहीं|

वसीम बरेलवी

2 Comments

Leave a Reply