और उधर का हो जाए!

उसी को जीने का हक़ है जो इस ज़माने में,
इधर का लगता रहे और उधर का हो जाए|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply