किसी शाख़-ए-शजर का हो जाए!

खुली हवाओं में उड़ना तो उसकी फ़ितरत है,
परिंदा क्यूँ किसी शाख़-ए-शजर का हो जाए|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply